फरवरी 2020 में ये काम कीजिये प्रधानमन्त्री आवास या मुख्यमन्त्री आवास आपको जरुर मिलेगा

दोस्तों, अगर आपको प्रधानमन्त्री आवास पाना है तथा शौचालय पाना है या फिर मुख्यमन्त्री आवास योजना का लाभ पाना है तो आप इस लेख को पूरा अन्तिम तक पढियेगा ताकि आपको सारी जानकारी हो सके और आप सभी सरकारी योजनाओं का लाभ पा सके। 

 

मित्रों यदि आप अभी तक किसी भी सरकारी सुविधा का लाभ नही पा रहे हैं जैसे आवास, शौचालय, मुख्यमन्त्री आवास या अन्य कोई सरकारी सुविधा का लाभ तो अब उसका समय आ चुका है कि आप पहले से ये काम करें जो में आपको इस लेख के माध्यम से बताना चाहता हूँ।

 

जब जब आर्थिक जनगणना होती है तब तब एक सर्वे करने वाला व्यक्ति आपके घर आता है और सारे रिकार्ड आपसे पूछता है और देखता भी है और उसके आधार पर वह सरकार के द्वारा दिये आँक़ड़ों को आपसे पूछता है और उस पर आपके द्वारा बताया गया सारा रिकार्ड वह एक एक करके नोट कर लेता है और चला जाता है।

 

pm awas yojana and cm awas yojana
pm awas cm awas yojaa 2020

पिछली बार प्रधान मन्त्री आवास किसको-किसको मिला और क्यों मिला?

 

प्रिय पाठकों आपको पता होगा कि सन 2011 में एक आर्थिक जनगणना हुई थीं जिसमें आपके गाँव में आपके घर तक लोग आये थे और आपसे ये पूछे कि आपके घर में टीवी है या नही, मोबाइल है या नही, मकान पक्का है या कच्चा, मिट्टी  का मकान है कि फूस का मकान है, कितने सदस्य घर में हैं, कितने लोग बाहर दिल्ली,मुम्बई अन्य शहरों में कमाने खाने के लिये गये हैं, आप क्या करते हैं, ये सारी जानकारी सरकार अपने सर्वे में ले लेती हैं और चुप हो जाती है। फिर चुनाव का सिलसिला शुरु होता है, समय धीरे-धीरे बीतता है और आप धीरे-धीरे दो तीन साल में भूल जाते है कि कोई सर्वे हुआ था और क्यों हुआ था और उसको सरकार करवायी थी तो क्यो करवायी थी, ये सारी बाते आप भूल जाते हो।

 

सरकार क्या करेंगी इन सर्वे को कराकर।

 

जब कुछ महीनों या वर्षों बाद कोई सरकार बदलती है या कोई योजना लाती है गरीबों के लिये तो वह उसका आवेदन सभी लोगों से माँगती है। सभी लोगों से इसलिये माँगती है कि सभी लोग खुश रहें। लेकिन जब योजना का लाभ देना होता है तो वह छँटनी करना शुरु कर देती है। वह सारे लोगों में से केवल उन लोगों को चयनित करती है जो लोग पिछली सरकार की आर्थिक जनगणना में गरीब पाये गये थे और यही पर आपको ठेस पहुँचता है कि हमने भी आवेदन किया था लेकिन हमकों नही मिला। शायद अब आप मेरी बातों को समझ रहे होंगे।

 

क्या आप चालाकी से प्रधानमन्त्री आवास या मुख्यमन्त्री आवास पाना चाहते हैं?

PM awas yojan 2020
pm awas yojana cm awas yojana kaise paye

दोस्तों आज का समय एक मशीन युग कहा जाता है मानवता केवल कहने के लिये रह गयी है, आज के समय में सारा सवाल और जबाव मशीन से अर्थात कम्प्यूटर से होने लगा है। ऐसे में कम्प्यूटर के वश का नही है कि आप दया के पात्र है या दुवा के पात्र। कहने का तात्पर्य यह है कि अगर आज के युग में सरकारी योजनाओं का लाभ लेना है तो आपको सबसे पहले, अपने आप को सरकारी सर्वे में गरीब बनना होगा। अब गरीब कैसे बनेंगे? इसका एक बहुत ही आसान सा उपाय है। जब आर्थिक जनगणना हो तब आप सक्रिय रहिये। जैसे ही जनगणना करने वाला कोई बन्दा आपके घर या पड़ोस में आता है तो उसको आप अपने आप को गरीब बताइये। अगर वह आपकी बात स्वीकार नही करता है तो उसको आप अपने स्तर से डील करिये क्योंकि वही व्यक्ति सरकार के आँकड़ो में आपको अमीर बनायेगा और वही ब्यक्ति आपको सरकार के नजरों में गरीब बनायेगा। आप सरकार के आँकड़ों में जैसा बनेंगे वैसा ही लाभ आने वाले समय में पायेंगे। 

 

जो बाते मैं इस लेख में लिख रहा हूँ ये सारी बाते उस प्रधान को पता होगा जो ज्यादा दिनों से अपनी परधानी चटकाया होगा। अनुभवी प्रधान  सर्वे के टाइम पर अपने लोगों या अपने वोटरों का नाम गरीबों की कटेगरी में डलवाता है। जब कोई योजना आती है तो उसी प्रधान के सगे-सम्बन्धी या वोटर उस योजना का लाभ पाते हैं तो ये कहा जाता है कि प्रधान ने उसको दिलवाया मुझे नही दिलवाया। 

 

इस लेख को लिखने का यही मतलब है कि आप अपने भविष्य के लिये अभी से चेत जाओ। फरवरी 2020 में आर्थिक जनगणना का काम होगा आप के पास मौका है कि आप अपने आपको किस लायक समझते हो और भविष्य में कैसा लाभ पाना चाहते हो। आपकी खुशहाली और तरक्की के लिये मै इसी तरह का लेख इस वेबासाइट पर लाता रहता हूँ। 

 

 

पीएम आवास और सीएम आवास योजना
फरवरी 2020 में करें ये काम

 

आपको जब भी मन करें कि ग्राम पंचायत से जुडी हुई बातों पर जानकारी लेना चाहिये आप अपने मोबाइल में गूगल में जाकर टाइप कीजिये www.upgrampanchayatchunav2020.com और सारी जानकारी पढ लीजिये।

 

मै उम्मीद करता हूँ कि आप इस सारी बातों को पढकर खुशी की अनुभूति कर रहे होंगे इसी मुस्कुराहट के साथ आप हमें कमेन्ट करके बताएं कि आप को किस टापिक पर अगला लेख चाहिए।

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *