28 जनवरी से 5 फरवरी के बीच चुनाव की तारीख घोषित होने का अनुमान

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव:  28 जनवरी से 5 फरवरी के बीच होगें  इलेक्शन शुरु हो गयी है तैयारी

 

यूपी में पांच साल पहले  हुए ग्राम पंचायत के चुनाव में चुने हुए प्रधानों का कार्यकाल समाप्त हो गया
25 दिसम्बर से ही  मध्य रात्रि से वर्तमान प्रधानो का वित्तीय अधिकार सीज हो गया और सभी ग्रामप्रधानों के वित्तीय खाते बन्द कर दिए गये . त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तैयारियों में काफी तेजी देखने को मिल रही है  लेकिन अभी तक आयोग की तरफ से कोई निश्चित तारीखों का ऐलान नही किया गया है  लेकिन जिला प्रशासन ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी है । चुनाव के लिए व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में प्रभारियों को नियुक्त कर दिया गया है।

इस बार ग्राम पंचायत चुनाव 2020-21 में क्षेत्र पंचायत ,जिला पंचायत और ग्राम पंचायत के चुनाव तीनो चुनाव एक ही साथ करवाने के लिए आयोग पूरी तरह से तैयार है और साथ में ये भी खबर आ रही है कि पंचायती राज विभाग 28 जनवरी से  5 फरवरी के बीच चुनाव करवाने की सोच रहा है  इसके बाद आयोग अपने हिसाब से पंचायत चुनाव  के लिए अधिसूचना जारी करेगा।

gram panchayat chuanav
gram panchayat chunav 2021

राज्य सरकार की मंशा 31 मार्च तक चुनाव कराते हुए पंचायतों का गठन कराने की है  जिससें 2021 की बोर्ड की परीक्षाओं पर किसी भी तरह  का प्रभाव न पड़े  इस बार नगरीय सीमा का विस्तार हो जाने से ग्राम पंचायते और क्षेत्र पंचायते कुछ कम हो गई है इनका परिसीमन 15 जनवरी तक हर हाल में पूरा करानें की तैयारी है  और इसके साथ ही जनवरी में ही आरक्षण  का काम भी  पूरा कर लिया जायेगा .आरक्षण का समीकरण किस तरह से होगा ,सीटो का आवंटन किस तरह से होगा ? इस पर अभी विचार –विमर्श चल रहा है।

गांव-गांव में नेटवर्क बनाने के लिए पुलिस भी पूर्ण रुप से सक्रिय-


एडीजी प्रयागराज जोन प्रेमप्रकाश ने मातहतों को निर्देश दिये कि पंचायत चुनाव जल्द होने वाले है . ऐसे में पेशबंदी को लेकर विवाद उत्पन्न होने की सम्भावना बनी रहती है इन सब चीजो को रोकने के लिए गावों में सुचनातंत्र को मजबूत बनाये रखें । और इलाके हिस्ट्रीशीटरों पर ज्ञात अपराधियो की गतिविधियो पर कड़ी नजर रखी जाए जिससे वो चुनाव में किसी तरह का विघ्न न डालने पाये और क्षेत्र के जो भी इनामी अपराधी है उनके धरपकड़ में तेजी लाया जाय और जगह जगह अवैद्य रुप से बिक रहे गाजें व कच्ची शराबों पर छापेमारी कर के उस पर रोक लगाया जाय और जो भी व्यक्ति इन सब में लिप्त पाया जाये उसके खिलाफ सख्त कार्यवाई किये जाने के आदेश दिये है और कहा की सारी तैयारिया समुचित तरींके से किये जाये जिससे पंचायत चुनाव  शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हों…..

आयोग 31 मार्च से पहले करवाना चाहती है चुनाव-

25  दिसम्बर से ग्राम प्रधानो का कार्यकाल समाप्त हो चुका है उनके खाता संचालन पर भी रोक लग चुका है . 3 जनवरी ,2021 को जिला पंचायत अध्यक्ष जबकि 17 मार्च को क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा हो रहा है .ऐसे में लोग चुनाव की तारीखों का बेसब्री से इन्तजार कर रहे है . ऐसे में प्रदेश में एक साथ ग्राम प्रधान,ग्राम पंचायत सदस्य ,तथा 823 ब्लॉक के क्षेत्र पंचायत सदस्य और 75 जिले पंचायत सदस्य के 3200 पदों पर चुनाव कराया जाना है  ऐसे में प्रदेश सरकार की मंशा है कि 31 मार्च से पहले चुनाव कराते हुए पंचायतो का गठन करा लिया जाए ताकि अप्रैल में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं पर इसका कोई असर ना पड़े । इसके लिए फरवरी में अधिसूचना जारी की जा सकती है आयोग ने 22 जनवरी तक मतदाताओं की सूची हर हाल में तैयार करने को कहा है ।

74 जिलो की 58656 ग्राम पंचायत भंग-

उत्तर प्रदेश के एक जिले को छोड़कर बाकी के सभी जिलो की 58656 ग्रामपंचायतें 25 दिसम्बर की रात से भंग हो गयी  सिर्फ गौतमबुद्ध नगर में ग्राम पंचायत का कार्यकाल पहले कि  तरह चल रहा है  इसको लेकर प्रशासन की तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है  अपर मुख्य सचिव पंचायती राज मनोज कुमार सिंह ने सभी ग्रामपंचायतों में नये  प्रशासको की नियुक्ति के लिए जिलाधिकारियो को नामित किया है गौतमबुद्ध नगर में ग्राम प्रधानो का कार्यकाल इसलिए समाप्त नही होगा क्योकि 88 पंचायतों  का कार्यकाल अभी पूरा नही हुआ है यहां सबसे बाद में  पंचायत चुनाव  हुआ था जो कि मई 2016 में हुआ था यहा की  ग्रामपंचायतों का कार्यकाल 14 जून,2021 को समाप्त  होगा और इसी तरह गोडा जिले में 10 ग्राम पंचायतो का भी कार्यकाल  अभी नही पूरा हुआ है, वहा भी चुनाव सबसे बाद में होने की सम्भावना है।

अब ग्राम पंचायतो की कमान सहायक विकास अधिकारी पंचायत के हाथो में होगी।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *